आधार कार्ड को लेकर दो बड़े फैसले, देख लें वरना पछताएंगे




आधार कार्ड को लेकर दो बड़े फैसले लिए गए हैं,​ जिन्हें एक दिसंबर से लागू भी कर दिया गया है। जल्दी से देख लें, नहीं तो पछताना पड़ सकता है।

अभी तक सरकारी कामकाज के लिए आधार कार्ड जरूरी है, लेकिन अब इसे पढ़ाई-लिखाई के लिए भी अनिवार्य कर दिया गया है। हरियाणा बोर्ड ने निर्देश दिए हैं कि एग्जाम में बैठने के लिए आधार कार्ड होना बहुत जरूरी है। जेईई मेन्स के फॉर्म भरने के लिए भी इसे जरूरी कर दिया गया है। इस बार ऑनलाइन आवेदन में आधार नंबर देना जरूरी होगा। जम्‍मू-कश्‍मीर, असम और मेघालय के आवेदकों के लिए आधार कार्ड अनिवार्य नहीं है।

सीबीएसई बनवाएगा आधार कार्डः सरकार के इस फैसले के बाद आधार कार्ड की अनिवार्यता की वजह से परेशान स्‍टूडेंट्स के लिए सीबीएसई ने नई कवायद शुरू की है। दरअसल, सीबीएसई स्‍टूडेंट्स के आधार कार्ड बनवाएगा। इसके लिए देशभर में 104 सुविधा केंद्र बनाए गए हैं। बोर्ड ने इन केंद्रों की सूची जेईई मेन्‍स की अधिकारिक वेबसाइट पर जारी कर दी है।

आधार कार्ड के लिए बनाए सुविधा केंद्रः सुविधा केंद्र पर रजिस्‍ट्रेशन कराने के बाद 3 से 5 हफ्तों में आधार कार्ड जारी कर दिया जाएगा। इसकी जानकारी स्टूडेंट को मैसेज और ईमेल से मिलेगी। अगर आवेदन की अंतिम तिथि 2 जनवरी 2017 तक आधार नहीं बन पाता है तो वह फॉर्म में आधार के एनरोलमेंट नंबर को भर सकते हैं। एनरोलमेंट नंबर आधार के रजिस्‍ट्रेशन के समय मिले स्‍लिप पर लिखा होता है और यह 28 डिजिट का होता है।

आधार को लेकर दूसरा फैसलाः अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं है तो रसाई गैस पर सरकार की तरफ से मिलने वाली सब्सिडी बंद हो जाएगी। ऑयल कंपनियों ने निर्देश जारी किए हैं कि सब्सिडी उन्हें ही दी जाए जिनके आधार कार्ड गैस कनेक्शनों से लिंक हैं। वहीं, राहत देते हुए ये निर्देश भी जारी किए हैं कि अगर गैस कनेक्शन आधार से लिंक नहीं कराया है या आपके पास आधार कार्ड नहीं है तो 31 दिसंबर 2016 तक लिंक करा लें।

Loading...

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*